From Album: Insearch (1992)
Written By: Qateel Shifai

Apne Hothon Par Sajana Chahata Hoon,
Aa Tujhe Main Gun-gunana Chahata Hoon

Koi Aansu Tere Daman Par Girakar,
Boond Ko Moti Banana Chahata Hoon

Thak Gaya Main Karte Karte Yaad Tujhko,
Ab Tujhe Main Yaad Aana Chahata Hoon

Cha Raha Hain Sari Basti Me Andhera,
Roshni Ko Ghar Jalana Chahata Hoon

In Hindi

अपने होंठों पर सजाना चाहता हूं,
आ तुझे मैं गुन-गुनाना चाहता हूं

कोई आँसू तेरे दामन पर गिराकर,
बूँद को मोती बनाना चाहता हूं

थक गया मैं करते-करते याद तुझको,
अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ

छा रहा है सारी बस्ती मे अंधेरा,
रोशनी को घर जलाना चाहता हूं

आखरी हिचकी तेरे ज़ानो पे आए,
मौत भी मैं शायराना चाहता हूं

अपने होंठों पर सजाना चाहता हूं,
आ तुझे मैं गुन-गुनाना चाहता हूं ||

error: Content is protected !!