From Album: Insearch (1992)
Written By: Rahat Indori

 

Dosti Jab Kisi Se Kee Jaaye
Dushmano Ki Bhi Raaye Lee Jaaye

Maut Ka Zahar Hai Fizaon Mein, – (2)
Ab Kahan Ja Kay Saans Lee Jaaye, – (2)
Dushmano Ki Bhi Raaye Lee Jaaye

Bas Isee Sonch Mein Hoon Dooba Hua, – (2)
Ye Nadi Kaise Paar Kee Jaaye, – (2)
Dushmano Ki Bhi Raaye Lee Jaaye

Mere Maazi Ke Zakhm Bharne Lage, – (2)
Aaj Phir Koi Bhool Kee Jaaye, – (2)
Dushmano Ki Bhi Raaye Lee Jaaye

Botlayen Khol Ke To Pee Barson, – (2)
Aaj Dil Khol Ke Bhee Pee Jaaye, – (2)
Dushmano Ki Bhi Raaye Lee Jaaye

In Hindi:

 

दोस्ती जब किसी से की जाये
दुश्मनों की भी राय ली जाए

मौत का ज़हर हैं फिजाओं में, – (2)
अब कहा जा के सांस ली जाए, – (2)
दुश्मनों की भी राय ली जाए…

बस इसी सोच में हु डूबा हुआ, – (2)
ये नदी कैसे पार की जाए -(2)
दुश्मनों की भी राय ली जाए…

मेरे माज़ी(past) के ज़ख्म भरने लगे, – (2)
आज फिर कोई भूल की जाए, – (2)
दुश्मनों की भी राय ली जाए…

बोतलें खोल के तो पि बरसों, – (2)
आज दिल खोल के पि जाए, – (2)
दुश्मनों की भी राय ली जाए…
दोस्ती जब किसी से की जाये.

error: Content is protected !!