हम दोस्ती एहसान वफ़ा, भूल गये हैं
ज़िंदा तो हैं, जीने की अदा, भूल गये हैं

ख़ुशबू जो लुटाती हैं, मसलते हैं उसी को
अहसान का बदला यही मिलता है कली को
अहसान तो लेते हैं, सिला भूल गाएँ हैं
हम दोस्ती..

करते हैं मोहब्बत का और एहसान का सौदा
मतलब के लिए करते है ईमान का सौदा
डर मौत का और ख़ौफ़-ए-खुदा, भूल गये हैं
हम दोस्ती..

अब मोम पिघल कर, कोई पत्थर नही होता
अब कोई भी कुरबान, किसी पर नही होता
यू भटके है मंज़िल का पता भूल गये हैं
हम दोस्ती..

Hum Dosti Ehsaan Wafaa Bhool Gaye Hain
Zinda To Hain Jine Ki Adaa Bhool Gaye Hain

Khusboo Jo Lutati Hain, Masalte Hain Usi Ko
Ehsaan Ka Badla Yahi Milta Hai Kali Ko
Ehsaan To Lete Hain Sila Bhool Gaye Hain
Hum Dosti..

Karte Hain Mohabbat Ka Or Ehsaan Ka Sauda
Matlab Ke Liye Karte Hai Iman Ka Sauda
Dar Maut Ka Or Khauf-e-khuda,
Bhool Gayen Hain
Hum Dosti..

Ab Mom Pighal Kar, Koi Patthar Nahi Hota
Ab Koi Bhi Kurban, Kisi Par Nahi Hota
Yu Bhatke Hai Manzil Ka Pata Bhool Gayen Hain
Hum Dosti..

Album: Adaa

error: Content is protected !!