“aadmin bulbula hai paani ka…
aur paani ki behti sateh pr…
tootta bhi hai doobta bhi hai…
Pir ubharta hai phir se behta hai..
na samandaar nigal ska isko…
na tavareekh tod paayi hai
Waqt ki moz pr sada behta…
aadmin bubula hai paani ka”

Zindagi kya hai jaanne ke liye…
zinda rehna bahut zaruri hai…
aajtak koi bhi rha to nahi…

Saari vaadi udaas baithi hai..
mausem-e-gul ne khudkashi kar li…
kisne baarud boya baagon me…

Aao hum sab pehnlen aaiene…
saaren dekhenge apna hi chehra…
sabko saare haseen lagenge yaha…

Hai nahi jo dokhai deta hai..
Aaine pr chapa hua chehra…
Trjukma aaiene ka theek nahi…

Humko galib ne ye dua di thi…
Tum salamt raho hazar baras…
Ye baras to faquat dinon me gya…

Lab tere meer ne bhi dekhen hai
pankhadi ek gulaab ki si hai
baaten sunte to gaalib ho jaate

Eise bikhre hai raat din jaise
motiyon vaala haar toot gya
tumne mujhko piron ke rakha tha…

Tumne mujhko piron ke rakhha tha…

Hindi :–

“आदमी बुलबुला है पानी का…
और पानी की बहती सतह पर…
टूटता भी है डूबता भी है…
फिर उभरता है फिर से बहता है…
न समंदर निगल सका इसको..
न तवारीख तोड़ पायी है…
वक़्त की मोज़ पर सदा बहता…
आदमीं बुलबुला है पानी का…”

ज़िंदगी क्या है जानने के लिए…
जिन्दा रहना बहुत ज़रूरी है…
आज तक कोई भी रहा तो नहीं…

सारी वादी उदास बैठी है…
मौसम-ए-गुल ने खुदकशी करली…
किसने  बारूद बोया बागों में…

आओ हम सब पहनलें आईने…
सारे देखेंगे अपना ही चेहरा…
सबको सारे हसीं लगेंगे यहाँ…

हमको ग़ालिब ने ये दुआ दी थी…
तुम सलामत रहो हज़ार बरस…
ये बरस तो फकत दिनों में गया…

लब तेरे मीर ने भी देखें है…
पंखड़ी एक गुलाब की सी है…
बातें सुनते तो ग़ालिब हो जाते…

ऐसे बिखरें है रात दिन जैसे…
मोतियों वाला हार टूट गया…
तुमने मुझको पीरों के रखा था…

तुमने मुझको पीरों के रखा था…

error: Content is protected !!